नई सन्सद पर विचार अनेक

आज दिनाक 28 मई 2023 को प्रधान मंत्री जी ने नई संसद का उद्घाटन किया जिसके कारण विपक्ष ने सविधान की दुहाई देकर पी. एम. मोदिजी कि जगह देश कि रास्ट्पति जी से कराने के लिए उद्घाट्न का विरोध किया गया

लेकिन 28 मई 2023 को मोदिजी के द्वारा ही किया गया ओर साथ ही आज के दिन हिंदु नायक वीर सावर्कर जी का जन्म दिवस था साथ हि विधान सभा अपीकर के पास संगोल कि स्थापना कि गई ।

अब अनेक पार्टियो ने अनेक विचार अपने अपने हिसाब से दिए हैं जेसे-

बिहार कि नितिस वाली पार्टी ने कहा है कि ये संसद तो ताबुत के रूप मे बनाई हैं जिसका पता बी जे पी को 2024 के चुनाव मे चल जायेगा

इसका जवाब मे बीजेपी ने कहा की ये आपकी मांसिक्ता को दर्साता हैं कि आप क्या चाहाते हैं ओर 2024 मे पता चल जयेगा कि तबूत किसका हैं ?

ललन सिह- ने कहा कि यदी हमारी सरकार आई तो इसे कबाड बना देंगे।

जेडीयु – नए संसद भवन का ओचित्य क्या हैं ?

राहुल गांधी – ने कहा की मोदी उद्घाटन को राज्येभिसेख समझ रहे हैं।

प्रिंका- अह्न्कार ओर अनयाय देश देख रहा हैं

सुप्रिया- आज संसद मे मोदी का राजतिलक दिखाई दिया

खड्गे- लोकतंत्र इमारत से नही चल्ता ?

बीजेपी के हक- मे-पार्टिया-

मायावती- जिसने बनाई उसे हक

एच डि देव्गोडा-

चंद्र बाबु नायडु-

सुखबिर सिह बादल-

वाई एस आर-

नविन पट्नायक-

कुल मिला कर 25 पार्टिया

बीजेपी के विरोध मे-पार्टिया–

समाजवादि पार्टि-

काग्रेस –

एनसी पी-

जेडीयु-

टिएमसी-

आर जे डी-

आम आदमी पार्टी-

ओवेसी-

एन सीपी-फारुख अब्दुल्ला-

सीवसेना- उधव ठाकरे-

कुल मिला कर 20 पार्टिया।

अब संसद का उदघाटन हो चुका हैं लेकिन कुछ ओर सवाल बनते हैं- जो आगे चल्कर विपक्ष के सामने खडे होंगे ?

जेसे –

  1. क्या नई संसद के सत्र मे आगे से ये पार्टिया नहि जायेगी ?
  2. क्या काग्रेस के पास संसद बनाने के लिये लग्भग 50 साल का समय कम था ?
  3. जब आजादि के समय सेंगोल को लाया ग्या तो कोंग्रेस ने क्या जान बुझ कर उसे गायब किया?
  4. क्या हिंदु धरम को काग्रेस ने एक निती के अनुसार कमजोर किया?
  5. जब देश को धर्म निर्पेक्ष कहा ग्या तो क्या देश मे सभी धरम कि जनसन्ख्या बराबर थी?
  6. क्या आजदी के समय ये तय हुआ था कि पकिस्तान तो मुस्लिम देश होगा लेकिन भारत हिंदु देश नही होगा?
  7. जब भारत को धरम निरपेक्ष बनाना था तो पकिस्तान क्यो बनाया?
  8. क्या काग्रेस मोदी विरोध मे हिंदु विरोधी हो गई हैं?
  9. क्या काग्रेस का मकसद मुस्लिम वोट के लिए हिंदु धर्म को कुछ भी कहते हैं ?
  10. क्या काग्रेस मुस्लिम वोट के लिए हिंदु धर्म के संघटनो को देश विरोधी बना रही हैं ?
  11. क्या राहुल गाधी वीर सावर्कर का विरोध के कारन ही संसद के उदघाटन का विरोध किया लेकिन नाम संविधान का लिया?
  12. क्या काग्रेस मोदी विरोध मे देश विरोधी भी बनती जा रही हैं जेसे- धारा-370 हटाना, राम मंदिर का विरोध, पकिस्तान पर कडा. रूख, चीन के पक्क्ष मे बाते करना ?
  13. क्या काग्रेस ने मोदी विरोध के कारण अपनी निति को छोड. कर उसकी पहले की विरोधी पारटियो का साथ देना ? – शिव सेना, सीपीआई, टीएमसी आदी.
  14. क्या काग्रेस मोदी विरोध मे सेना पर भी सवाल उठाना सही हैं?
  15. अन्य मुददे जेसे – नोट बंदी, जीएसटी, आधार कार्ड, सीएए, पर मोदी सरकार का विरोध सही था

अनेक ओर भी सवाल बनते हैं जो आने वाले समय मे आगे आते रहेगे अत: काग्रेस केवल वोट बेंक कि राजनिती करके देश हित की भी सोचे ताकी आने वाले समय मे जनता भी काग्रेस के लिए फिर से विचार कर सक्ती हैं ?

2 thoughts on “नई सन्सद पर विचार अनेक

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *